SSL Certificate क्या होता है, HTTP और HTTPS में क्या अंतर है

आज के इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा SSL certificate क्या होता है, SSL certificate कितने प्रकार के होते हैं, और SSL certificate का क्या काम होता है इसी प्रकार के सभी ऐसे सर से जुड़े सवालों के जवाब आज मैं आपको देना वाला हूं, हेलो दोस्तों मेरा नाम है अनुराग सिंह तो चलिए अब हम SSL के बारे में जानते हैं।

SSL certificate क्या होता है और इसका क्या काम होता है?

आज के समय मे सभी लोग internet का इस्तेमाल करते है और बहुत से वेबसाइट पर अपने जरूरी जानकारी को शेयर सकते है, जैसे कि flipkart, amazon पर आप जब भी कुछ खरीदे तो वहां पर आप सबसे पहले अपना Login Id और Password डालेंगे और फिर उसके बाद जो भी आपको समान खरीदना है उसे खरीदेगे और फिर आप उस समान का पैसा देने के लिए आप डिजिटल तरीके का इस्तेमाल करके उसे पैसा देगे, जिससे आपको अपने Card या Net Banking का Details और password Share करना होगा।

अब आपने जो जानकारी आपके और उस वेबसाइट के बीच शेयर हुई है अगर कोई Hacker आपके दोनो के बीच शेयर हुए जानकारी हो चुरा लेगा तो उसके पास आपकी सारी जानकारी पहुच जाएगी, जिससे वह आपके aacount के साथ कुछ भी कर सकता है और आपके सारे पैसे भी चुरा सकता है।

SSL Kya hai
SSL Kya hai

अब आपके और वेबसाइट के बीच जो भी जानकारी शेयर हो रही है उसे कोई Hacker न चुरा पाए इसीलिए SSL Certificate का इस्तेमाल किया जाता है, SSL का पूरा नाम Secure Sockets Layer होता है, और यह इंटरनेट पर शेयर होने वाले सभी जानकारियों की सुरक्षा करता है, इसीलिए लिए सभी अच्छी वेबसाइट SSL का इस्तेमाल करती है।

और जिनके वेबसाइट में SSL certificate Install नही होता है उस वेबसाइटों को google अपने Search Results में बिना SSL certificate वाले वेबसाइट के मुकाबले SSL certificate install वाले वेबसाइट को ज्यादा रैंक कराता है।

HTTP और HTTPS में क्या अंतर होता है

इंटरनेट पर दो तरह की वेबसाइट होती हैं एक तरह के वह बेसाइड होती हैं जिसमें SSL certificate install होता है और एक तरह की वह वेबसाइट होती हैं जिसमें SSL certificate install नहीं होता है।

जो वेबसाइट SSL certificate को Install किये रहते है उनके URL के सामने HTTPS (Secure) लिखा आता है, और जो वेबसाइट SSL certificate install नहीं किया रहता है उसके वेबसाइट के URL के सामने HTTP (Not Secure) लिखा रहता है।

  • HTTP :- HyperText Transfer Protocol
  • HTTPS:- HyperText Transfer Protocol Secure

HTTP

जिस वेबसाइट में HTTP का इस्तेमाल हो रहा हो तो अगर आप मुझसे उसमें विजिट करते हैं तो और उसमें किसी भी तरह का जरूरी जानकारी शेयर करते हैं तो आप यह समझ लीजिए की आप जो भी जानकारी शेयर कर रहे हैं वह जानकारी Hackers Hack कर लेते हैं तो आपने जो भी जानकारी शेयर किया है वह उनके पास normal टेक्स्ट के रूप में पहुंच जाएगा और फिर वह आपसे जानकारी को गलत इस्तेमाल कर सकते हैं।

HTTPS

आप जब भी किसी ऐसे वेबसाइट पर visit करते है जिसमे ssl नही लगा होता है तो वह वेबसाइट नही खुलेगा अगर खुलेगा भी तो पहले आपको चेतावनी देता है कि ये वेबसाइट सुरक्षित नहीं है इस वेबसाइट को न खोलें।

जिस वेबसाइट में HTTPS लगा हो तो उसमें आप अपने जानकारी को शेयर कर सकते हैं वह सभी जानकारी कंप्यूटर की मदद से encrypt होकर जाती है और इस encrypt भाषा को केवल कंप्यूटर ही समझ सकता है मतलब की अगर आपके और वेबसाइट के बीच में से कोई Hacker आपके जानकारी को चुरा भी लेता है तो भी उसको जो जानकारी मिलेगा वह जानकारी encrypt रहेगी जिससे उस हैकर को कुछ भी पता नहीं चलेगा की उसमें क्या लिखा हुआ है।

SSL certificate किस प्रकार काम करता है

इंटरनेट पर जब भी आप कोई वेबसाइट को खोलते हैं और उसमें SSL certificate installed होता है तो वहां पर जब आप अपने जरूरी जानकारी जैसे कि आपका पासवर्ड, banking details शेयर करते हैं तो वह जानकारी SSL की मदद से सुरक्षित की जाती है जब भी वह जानकारी आपके और वेबसाइट के बीच में शेयर होगी SSL उस जानकारी को एक अलग भाषा में बदल देती है जिसे केवल कंप्यूटर ही समझ सकता है इससे जब भी आपका कोई जानकारी बीच में से चोरी करेगा भी तो वह जानकारी उसके किसी काम का नहीं रहेगा क्योंकि वह जानकारी encrypt रहती है।

तो अब आपको पता चल गया है कि जब भी हम किसी वेबसाइट पर कोई जानकारी शेयर करते हैं तो वह जानकारी को सुरक्षित वेबसाइट और आपके बीच पहुंचाने में मदद करती है।

SSL certificate कितने प्रकार के होते हैं

SSL certificate कई प्रकार के होते हैं और उनके कई तरह के उपयोग भी होते हैं तो चलिए कुछ Certificate के बारे में जान लेते है।

  1. Domain validation
  2. Organization validation
  3. Extended validation
  4. SAN/multi-domain SSL
  5. Wildcard SSL
  6. Multi domain SSL certificate
  7. Unified communication certificate

1. Domain validation (DV)

इस तरह के SSL बड़ी आसानी से सस्ते में मिल जाती है इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा ब्लॉग में किया जाता है क्योंकि ब्लॉग में ज्यादा सुरक्षा की आवश्यकता नहीं होती है, यह एक सामान्य सर्टिफिकेट है।

2. Organisation validation

यह SSL DV से ज्यादा सुरक्षित है इसे प्राप्त करने के लिए आपको 2 से 3 दिन का समय लग सकता है।

3. Extended validation

इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा पैसे के लेनदेन करने वाली वेबसाइट पर होता है इसमें आप अपने बिजनेस का नाम के साथ साथ पैड लॉक भी दिखा सकते हैं।

4. SAN/Multi-Domain SSL

इसकी मदद से आप 100 Domain को सुरक्षित कर सकते है। इसका इस्तेमाल वे लोग करते है जिनके पास बहुत सारी वेबसाइट हो।

5. Wildcard SSL

इस SSL से आप एक Domain के Unlimited sub domain पर SSL इस्तेमाल कर सकते है।

6. Multi domain SSL certificate

इसकी मदद से आप अनलिमिटेड डोमेन और अनलिमिटेड सबडोमेन में सर्टिफिकेट को इस्तेमाल कर सकते हैं।

7. Unified communication certificate

इससे माइक्रोसॉफ्ट जैसे सर्वर को सुरक्षित करने के लिए बनाया गया है यह बहुत ही ज्यादा सुरक्षित है और इस सर्टिफिकेट से आप सौ डोमेन को इस्तेमाल कर सकते हैं।

SSL का इतिहास

  • SSL 1.0 :- Netscape ने 1990 में SSL 1.0 लाया था लेकिन इसमें सुरक्षा को लेकर बहुत सारी कमियां थी इसलिए इससे लॉन्च नहीं किया गया।
  • SSL 2.0 :- 1995 के फरवरी में SSL 2.0 लाया गया और ये पहला SSL था जो लांच किया गया, लेकिन अभी तक बहुत सी कमियां थी।
  • SSL 3.0 :- फिर इसके बाद 3.0 लाया गया और इसे बहुत ज्यादा ही इस्तेमाल किया गया, लेकिन POODLE Attack के बाद इसे भी सिक्योर नहीं माना गया।
  • TLS (Transport Layer security) :- TLS, SSL का ही अब तक का सबसे ज्यादा सुरक्षित Certificate माना जाता है, TLS 1.3 अगस्त 2018 में लाया हुआ सबसे सुरक्षित Latest Version है।

कैसे पता करे कि किस वेबसाइट में SSL लगा हुआ है

SSL लगा हुआ वेबसाइट:- अगर आप कोई वेबसाइट को खोलते हैं तो उसमें अगर Link के आगे इस तरह ताले का निशान बना रहेगा तो इसका मतलब है कि इस वेबसाइट में SSL certificate इंस्टॉल हुआ है और ये वेबसाइट सुरक्षित है।

SSL Laga Hua Website
SSL Laga Hua Website

SSL नही लगा हुआ वेबसाइट:- अगर आप कोई वेबसाइट ओपन करते हैं और उसमें किस तरह का निशान बना रहता है और वहां पर not secure लिखा रहता है तो इसका मतलब है कि वह वेबसाइट सुरक्षित नहीं है उसमें SSL certificate install नहीं किया गया है।

Not Secure without ssl
Bina SSL wali Website

क्या हम Free का SSL certificate अपने ब्लॉग में install कर सकते हैं

अगर आपके पास कोई ब्लॉग है और उसमें आप किसी से भी कोई इंफॉर्मेशन नहीं ले रहे हैं जैसे कि कोई यूजर आईडी और पासवर्ड तो आप फ्री का SSL सर्टिफिकेट इस्तेमाल कर सकते हैं बहुत से ब्लॉगर cloudflare का इस्तेमाल करते हैं।

5 Best Free SSL Certificate Provider
  1. Cloudflare
  2. Let’s Encrypt
  3. WordPress HTTPS SSL Plugins
  4. SSL For Free
  5. GoGetSSL
SSL Certificate से जुड़े कुछ प्रश्न और उसके उत्तर

यहां पर मैं आपको कुछ प्रश्न के उत्तर देने वाला हूं अगर आपके मन में कोई और सवाल है तो आप हमें कमेंट करके जरूर पूछिएगा हम उसका जवाब जरूर देंगे।

प्रश्न:- क्या आप फ्री का SSL Certificate इस्तेमाल कर सकते हैं।

उत्तर:- आप अपने उपयोगकर्ताओं से ज्यादा जरूरी इंफॉर्मेशन नहीं ले रहे हैं तो आप फ्री का SSL सर्टिफिकेट इस्तेमाल कर सकते हैं

प्रश्न:- एसएसएल सर्टिफिकेट का मुख्य कार्य क्या है?

उत्तर:- एसएसएल सर्टिफिकेट का सबसे मुख्य कार्य वेबसाइट की सुरक्षा को बढ़ाना।

प्रश्न:- अगर हमारे वेबसाइट में एसएसएल सर्टिफिकेट नहीं लगा हुआ है तो उससे क्या रैंकिंग पर कुछ फर्क पड़ता है?

उत्तर:- अगर आपके वेबसाइट में एसएसएल सर्टिफिकेट नहीं लगा हुआ है तो आपके वेबसाइट के रैंकिंग पर इफेक्ट करेगा क्योंकि अगर आपके वेबसाइट पर सिक्योर कनेक्शन का चिन्ह नहीं रहेगा तो लोग आपके वेबसाइट से निकल जाएंगे।

Anurag

मेरा नाम अनुराग सिंह है और मैं लोगो को Blogging सिखाता हु और blogging के बारे मे सभी जानकारी देता हु ताकि और भी लोग blogging मे आकर लोगो की मदत करे और पैसे भी कमाए internet पर blogging के बारे मे हिन्दी मे पूरी जानकारी उपलब्ध नहीं है इसीलिए इस ब्लॉग पर blogging की सभी जानकारी प्रदान करूंगा।

Leave a Reply